शिरीष खरे

स्वतंत्र पत्रकार शिरीष, भारत के कई प्रतिष्ठित मीडिया संस्थानों में काम कर चुके हैं। इनकी किताब 'एक देश बारह दुनिया' चर्चा में है

More Articles

‘खेतों में जानवर खा रहे सब्जियां, हम क्या खाएं!’

कोल्हापुर: महाराष्ट्र के पश्चिम की ओर कर्नाटक से सटे कोल्हापुर जिला मुख्यालय से करीब 20 किलोमीटर दूर हसुर गांव में नामदेव पाटिल ने इस बार अपने खेत के आधा एकड़ खेत हिस्से में भिंडी और...

गायत्री मंत्र से कोरोना का उपचार और भारत में विज्ञान का भविष्य

कोरोना महामारी से जब जीवनरक्षक दवाइयों और ऑक्सीजन की कमी से देश भर में रिकार्ड मौते हो रही हैं और हर दिन साढ़े तीन से चार लाख लोग संक्रमित हो रहे हैं तब सरकार से...

कोरोना-काल में रैलियों के बिना क्यों नहीं हो सकते चुनाव?

अमेरिका में पिछले साल नवंबर में राष्ट्रपति पद के लिए मतदान हुए थे, जिसमें चुनाव के दौरान तक कोरोना वायरस का कहर और जनता के स्वास्थ्य की उपेक्षा रिपब्लिक पार्टी के उम्मीदवार और तत्कालीन राष्ट्रपति...

दुनिया के बेशकीमती पत्थर अलेक्जेंड्राइट के लिए आदिवासी किसानों की जमीन पर कब्जा, न मुआवजा, न नौकरी

गरियाबंद/रायपुर: अविभाजित मध्यप्रदेश और वर्तमान छत्तीसगढ़ के एक गांव में किसानों के खेतों में बरसों पहले बेशकीमती पत्थरों के खजाने का पता चला था। तब इन जमीनों का अधिग्रहण करने के लिए किसानों को अच्छे...

बंगाल में चुनाव आयोग की भूमिका पर क्यों उठ रहे सवाल?

पिछले 9 अप्रैल को चुनाव आयोग ने पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी को केंद्रीय सुरक्षा बलों पर गलत बयानबाजी के आरोप में दूसरी बार नोटिस भेजा। बता दें कि ममता बनर्जी केंद्रीय सुरक्षा बलों...

भारतीय मिश्रित अर्थव्यवस्था में एपीएमसी मंडियां ढहीं तो किन्हें नफा, किन्हें नुकसान

पिछले कुछ दिनों से तीन नए कृषि कानूनों को लेकर देश से लेकर विदेश तक में हंगामा मचा हुआ है। नए कृषि कानूनों के विरोध में किसान लंबे समय से दिल्ली बॉर्डर पर लगातार धरना...

26 मार्च भारत बंद के बाद किसान आंदोलन

पिछली 26 मार्च को किसान आंदोलन को चार महीने पूरे होने के मौके पर संयुक्त किसान मोर्चा के आह्वान पर पांच राज्यों में चल रहे विधानसभा चुनाव वाले राज्यों को छोड़कर शेष भारत के लिए...

किसानों की बीजेपी पर वोट की चोट भला क्यों?

केंद्र की मोदी सरकार के कृषि क़ानूनों के ख़िलाफ़ किसान आंदोलन के 98वे दिन संयुक्त किसान मोर्चा ने एक बड़ी घोषणा की। घोषणा यह कि वह बीजेपी को वोट के ज़रिए चोट पहुंचाएगा। मोर्चा की...

एमएसपी पर सरकार के दावे और फसलों के लिए जैव-विविधता की दलील में कितना दम?

पिछली 9 फरवरी को वाणिज्य एवं उद्योग मंत्री पीयूष गोयल ने कहा कि देश में चल रही एमएसपी (न्यूनतम समर्थन मूल्य) प्रणाली पूरी तरह डब्ल्यूटीओ (वर्ल्ड ट्रेड ऑर्गनाइज़ेशन) के अनुरूप है. दरअसल, मंत्री से पूछा...

Discover

Trending

Covid-19 second wave in India and the three corona warriors

The second wave of the corona has let hell loose throughout our nation. Lakhs of people have been affected and precious lives lost. As...

Covid Curtails Congregations but Takes us Down Memory Lane

The Covid-19 caused lockdown and norms of physical distancing have robbed the people of the opportunities to congregate and celebrate their festivals. Many religious...

Gurmehar issue gets murkier, ABVP burns her effigy in Kolkata

Kolkata: The Ramjas College issue has reached Bengal also, as both sides, Akhil Bhartiya Vidyarthi Parishad (ABVP) and Left student unions, hit on the...

He used to sell wire nails by ferrying on a scooter, now owns iron and steel company worth 5 billion

Giridih: A self-made industrialist, Chairman of Mongia Group of Companies, Gunwant Singh Saluja also doubles up as the brand ambassador of his own company....

Hemant Soren government takes back sedition charge slapped on 3000 anti-CAA and anti-NRC protesters

Ranchi: Jharkhand police which had slapped sedition cases on thousands of tribals during the Pathalgadi movement under Raghubar Das tenure, has done it again....