शिरीष खरे

स्वतंत्र पत्रकार शिरीष, भारत के कई प्रतिष्ठित मीडिया संस्थानों में काम कर चूके हैं। उम्मीद की पाठशाला पुस्तक के लेखक हैं और उनकी दूसरी किताब -- एक देश बारह दुनिया जल्द प्रकाशित होगी

More Articles

तमाम कृषि संकटों के बीच क्यों बड़ा है खेती में आधुनिकता का संकट?

कोरोना महामारी के दौर में अपनी रोजीरोटी को लेकर जद्दोजहद करने की कई सारी कहानियों के बीच पिछले दिनों एक कहानी मध्य-प्रदेश के खरगोन जिले के पथोरा गांव के युवा इंजीनियर सुधीर पटेल की चर्चा...

महाराष्ट्र: साप्ताहिक बाजारों पर पाबंदी से इस सीजन काजू की खरीद बंद, आफत में किसान

सिंधुदुर्ग/सांगली: कोरोना संक्रमण को नियंत्रित करने के उद्देश्य से महाराष्ट्र सरकार द्वारा लगने वाले साप्ताहिक बाजार बंद करने के बाद काजू के लिए प्रसिद्ध कोंकण के काजू उत्पादक किसान इन दिनों मुश्किलों का सामना कर...

‘खेतों में जानवर खा रहे सब्जियां, हम क्या खाएं!’

कोल्हापुर: महाराष्ट्र के पश्चिम की ओर कर्नाटक से सटे कोल्हापुर जिला मुख्यालय से करीब 20 किलोमीटर दूर हसुर गांव में नामदेव पाटिल ने इस बार अपने खेत के आधा एकड़ खेत हिस्से में भिंडी और...

गायत्री मंत्र से कोरोना का उपचार और भारत में विज्ञान का भविष्य

कोरोना महामारी से जब जीवनरक्षक दवाइयों और ऑक्सीजन की कमी से देश भर में रिकार्ड मौते हो रही हैं और हर दिन साढ़े तीन से चार लाख लोग संक्रमित हो रहे हैं तब सरकार से...

कोरोना-काल में रैलियों के बिना क्यों नहीं हो सकते चुनाव?

अमेरिका में पिछले साल नवंबर में राष्ट्रपति पद के लिए मतदान हुए थे, जिसमें चुनाव के दौरान तक कोरोना वायरस का कहर और जनता के स्वास्थ्य की उपेक्षा रिपब्लिक पार्टी के उम्मीदवार और तत्कालीन राष्ट्रपति...

दुनिया के बेशकीमती पत्थर अलेक्जेंड्राइट के लिए आदिवासी किसानों की जमीन पर कब्जा, न मुआवजा, न नौकरी

गरियाबंद/रायपुर: अविभाजित मध्यप्रदेश और वर्तमान छत्तीसगढ़ के एक गांव में किसानों के खेतों में बरसों पहले बेशकीमती पत्थरों के खजाने का पता चला था। तब इन जमीनों का अधिग्रहण करने के लिए किसानों को अच्छे...

बंगाल में चुनाव आयोग की भूमिका पर क्यों उठ रहे सवाल?

पिछले 9 अप्रैल को चुनाव आयोग ने पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी को केंद्रीय सुरक्षा बलों पर गलत बयानबाजी के आरोप में दूसरी बार नोटिस भेजा। बता दें कि ममता बनर्जी केंद्रीय सुरक्षा बलों...

भारतीय मिश्रित अर्थव्यवस्था में एपीएमसी मंडियां ढहीं तो किन्हें नफा, किन्हें नुकसान

पिछले कुछ दिनों से तीन नए कृषि कानूनों को लेकर देश से लेकर विदेश तक में हंगामा मचा हुआ है। नए कृषि कानूनों के विरोध में किसान लंबे समय से दिल्ली बॉर्डर पर लगातार धरना...

26 मार्च भारत बंद के बाद किसान आंदोलन

पिछली 26 मार्च को किसान आंदोलन को चार महीने पूरे होने के मौके पर संयुक्त किसान मोर्चा के आह्वान पर पांच राज्यों में चल रहे विधानसभा चुनाव वाले राज्यों को छोड़कर शेष भारत के लिए...

Discover

Trending

Versatility thy name is Ranveer Singh

Kolkata: Bittoo Sharma is now Jayeshbhai! If you are confused, here we go – it’s tracing Bollywood star Ranveer Singh’s transformation or to be...

Short films help young actors, directors in flying high at world of cinema

Kolkata: Short films have not only taken film industries across the world by storm but have also slowly and gradually become the voice of...

Nagri residents take on to the streets of Ranchi demanding the removal of DBT

Ranchi: “Rupaya Nahi, Ration Chahiye… DBT Hatao, Ration Bachao (We do not want money but ration.. Remove DBT, save ration),”  was the collective chant...

Second hunger death in a month, and cover ups by Jharkhand officials

Dhanbad/Ranchi: It’s not even a month, since Santoshi Kumari, an 11-year-old girl died of hunger in Simdega, and news of a rickshaw puller dying...

Do election duty honestly at your own risk in Madhya Pradesh

On complaints from the Congress, the Election Commission has removed Bhind and Satna Collectors. A common complaint against them was preparation of fake voters’...