किसी और चीज से पहले इंसान बनना शुरू कर देंगे, तो हम भाजपा की विचारधारा को पार कर लेंगे: राहुल गांधी

आप जानते हैं, मैंने एक बार अपनी दादी (इंदिरा गांधी) से पूछा था, "तुम्हे जाने के बाद याद किए जाने की क्या परवाह है" और दादी ने कहा, "मुझे कोई परवाह नहीं, मैं जा चुकी होउंगी।" आप उनकी विचारधारा से हैं.. ईमान से बोल रहा हूं

Must read

Darshan Mondkar
Darshan Mondkar
runs a manufacturing MSME, and loves narrating tales which turn the political and social into the personal. He is especially known for his disclaimers.

भारत जोड़ो यात्रा के दौरान राहुल गांधी से मेरी बातचीत (जारी):

मैं: हम, आम लोग, फैलाई जा रही नफरत की कहानी से कैसे निपटें?

राहुल: आरएसएस और बीजेपी खतरनाक हैं, वे आपको डर से नियंत्रित करना चाहते हैं और डर के लिए धर्म का इस्तेमाल करते हैं। कुछ बताओ तुम क्या हो?

मैं: मैं अधार्मिक हूँ।

राहुल: लेकिन तुम किसी धर्म में पैदा हुए होंगे ना?

मैं: हां, मैं जन्म से हिंदू हूं।

राहुल: तो क्या आपने वेद पढ़े हैं?

मैं: नहीं, मैंने नहीं पढ़े।

राहुल: मैंने पढ़ा है। उन सभी को। क्या आपको लगता है कि वे सभी जो खुद को हिंदू या सिख या मुस्लिम होने का दावा करते हैं, वास्तव में स्वयं अपने शास्त्रों को पढ़ने की परवाह/प्रयतन कर चुके हैं?

मैं: मुझे ऐसा नहीं लगता।

राहुल: तो जब वे अचानक यह दावा करने लगते हैं कि उन्हें हिंदू होने पर कितना गर्व है, तो वे इसे किस आधार पर रखते हैं?

मैं: सही सवाल है।

राहुल: आप पर झूठे गर्व का यह निर्माण चरमपंथ की ओर ले जाता है और फिर दूसरे धर्म का डर आरएसएस को आप पर नियंत्रण देता है। एक बार जब लोग इसका पता लगाने लगेंगे और किसी और चीज से पहले इंसान बनना शुरू कर देंगे, तो हम भाजपा की विचारधारा को पार कर लेंगे।

मैं: इंशाअल्लाह, हम करेंगे।

राहुल: (कोहनी मेरे कंधे पर रखते हुए और करीब आते हुए): तुम हिंदू हो या मुसलमान? आपने अभी कहा इंशाअल्लाह। तुमने मुझे बताया कि तुम एक हिंदू हो

मैं: मैंने यह भी कहा कि मैं अधार्मिक हूं और मुझे नहीं लगता कि धर्म एक इंसान को दूसरे से बेहतर या अलग बनाता है। हम सब एक समान ही हैं।

राहुल: देखिए, आप पहले से ही समझते हैं। ऐसा ही होना चाहिए, ‘मुस्कुराते हुए’

मैं: ‘मुस्कुराया’

राहुल: क्या तुम नास्तिक हो?

मैं: नहीं, मैं निरपेक्ष हूँ।

राहुल: आप एक विशेष विचारधारा के हैं। क्या आप पुनर्जन्म में विश्वास करते हैं?

मैं: नहीं।

राहुल: आप जानते हैं, मैंने एक बार अपनी दादी (इंदिरा गांधी) से पूछा था, “तुम्हे जाने के बाद याद किए जाने की क्या परवाह है” और दादी ने कहा, “मुझे कोई परवाह नहीं, मैं जा चुकी होउंगी।” आप उनकी विचारधारा से हैं.. ईमान से बोल रहा हूं।

मैं: मुझे इस कहानी का उपयोग करने की अनुमति है, सही?

राहुल: यह आप पर निर्भर है। बस इंसान बने रहो।

 

जारी..

ये लेख अँग्रेजी में थी, इसे विवेक लेखी ने अनुवाद किया है।

Darshan Mondkar
Darshan Mondkar
runs a manufacturing MSME, and loves narrating tales which turn the political and social into the personal. He is especially known for his disclaimers.

FOLLOW US

4,474FansLike
280FollowersFollow
803FollowersFollow
2,330SubscribersSubscribe

Editor's choice

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Latest News