ईन्यूज़रूम इंडिया

सचिन पायलट ने बीजेपी आईटी सेल हेड अमित मालवीय के झूठ की पोल खोल दी

काँग्रेस नेता सचिन पायलट बीजेपी आईटी सेल हैड अमित मालवीय

सचिन पायलट

काँग्रेस नेता सचिन पायलट ने 15 अगस्त के दिन, भारतीय जनता पार्टी के आईटी सेल के हेड अमित मालवीय के झूठ का करारा जवाब दिया। अमित मालवीय ने 13 अगस्त को ये ट्वीट किया कि सचिन के पिता राजेश पायलट और सुरेश कलमाड़ी ने 5 मार्च 1966 को मिज़ोरम की राजधानी आइजवाल पर बम गिराए थे, जिसके ईनाम के तौर पे दोनों को काँग्रेस में सांसद और मंत्री बनाया गया था। दो दिनों बाद, सचिन पायलट ने न सिर्फ ये बताया कि उनके पिता जिनका असल नाम राजेश्वर प्रसाद बिदुडी था को इंडियन एयरफोर्स में 29 अक्टूबर, 1966 को कमीशन हुए थे साथ ही उस समय का लेटर भी शेयर किया।

सचिन ने लिखा, “स्व. श्री राजेश पायलट जी दिनांक 29 अक्टूबर, 1966 को भारतीय वायु सेना में कमीशन हुए थे।
यह कहना कि उन्होंने 5 मार्च 1966 में मिज़ोरम में बमबारी करी थी – काल्पनिक है, तथ्यहीन है और पूर्ण तरह भ्रामक है।”

“हाँ, 80 के दशक में एक राजनेता के रूप में मिज़ोरम में युद्ध विराम करवाने और स्थाई शांति संधि स्थापित करवाने में उन्होंने महत्वपूर्ण भूमिका ज़रूर निभाई थी।”

“स्वतंत्रता दिवस की शुभकामनाएँ, जय हिन्द। ”

राजस्थान काँग्रेस के नेता ने अपना जवाब इंग्लिश और हिंदी दोनों में ट्वीट कर दिया। इंग्लिश में सचिन ने ये भी लिखा कि राजेश पायलट ने बम गिराया था पर ईस्ट पाकिस्तान में।

कहाँ से हुई मिज़ोरम पे एयर फोर्स के हमले की बात

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपने संसद में अविश्वास प्रस्ताव में 10 अगस्त को दिये भाषण में ये बताने के लिए कि काँग्रेस उत्तर-पूर्व के राज्यों के समस्याओ का मूल कारण है, ये बोला था कि इन्दिरा गांधी ने 1966 में मिज़ोरम पे एयरफोर्स के जरिये बम गिरवाया था।

अभी राजनीतिक जानकार ये बोल ही रहे थे के प्रधानमंत्री को भारतीय सेना को अपने राजनीतिक भाषण में शामिल नहीं करना चाहिए था और उन परिस्थितियों का भी ज़िक्र कर रहे थे जिन वजहों से आइजवाल पे बम गिराया गया था, इस बीच अमित मालवीय, जो सैकड़ों बार झूठी खबरें शेयर करते पकड़े जा चुके हैं ने अपना ट्वीट राजेश पायलट को और काँग्रेस को निशाना करके कर दिया।

ट्विटर पर हो रही अमित मालवीय की गिरफ्तारी की माँग

सचिन पायलट के ट्वीट के बाद, ट्वीटर पे हजारों लोगों ने अमित मालवीय के झूठ के लिए उस पर केस कर गिरफ्तार करने के बारे में लिख रहे। कुछ लोग तो अमित मालवीय माफ़ी माँगो भी ट्वीटर पर ट्रेंड करा रहे हैं।

Exit mobile version